Pages

Monday, June 27, 2011

एक को हटाकर दूसरे को कांट्रेक्ट पर नहीं रख सकते


चंडीगढ़ (ब्यूरो)। कांट्रेक्ट पर रखे किसी कर्मचारी को हटाकर उसके स्थान पर दूसरे कर्मी को कांट्रेक्ट पर तब तक नहीं रखा जा सकता, जब तक मौजूदा कर्मचारी को अयोग्य न ठहराया जाए या कर्मचारी की जरूरत न हो। पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के जस्टिस केएस आहलूवालिया ने हरियाणा के आईटीआई इंस्ट्रक्टरों की याचिका पर यह फैसला सुनाया है। ऐसे ही एक अन्य पंजाब सरकार से जुड़े कांट्रेक्ट लेक्चरर के मामले में हाईकोर्ट के जस्टिस प्रमोद कोहली की अदालत ने भी यही फैसला सुनाया है। हरियाणा के राकेश कुमार व अन्य की ओर से एडवोकेट दिनेश जांगड़ा द्वारा दायर याचिका पर अपने फैसले में जस्टिस आहलूवालिया ने कहा कि प्रतिवादीगण को आजादी है कि वह नियमित पदों को विज्ञापित कर नियम के तहत भरती करें। लेकिन कांट्रेक्ट पर रखे कर्मचारियों का हटाकर उनके स्थान पर अन्य को दोबारा कांट्रेक्ट पर नहीं रखा जा सकता। कांट्रेक्ट कर्मियों को अयोग्य या जरूरत न होने की स्थिति में ही हटाया जा सकता है।
Source: Amar Ujala {Panchkula-Haryana Edition Page-17}26/06/2011