Pages

Saturday, June 30, 2012

हरियाणा ओपन : परीक्षा पास करने के मिलेंगे 36 चांस

भिवानी. हरियाणा ओपन स्कूल के परीक्षार्थियों को परीक्षा पास करने के लिए तीन साल में सिर्फ छह अवसर नहीं, बल्कि 36 अवसर मिलेंगे। यह परीक्षार्थियों पर निर्भर करेगा कि वह कौन सा अवसर चुनना चाहता है। ओपन स्कूल अपने परीक्षार्थियों को ऑन डिमांड परीक्षा प्रणाली में यह सभी सहूलियत दे रहा है। अगर आपने हरियाणा ओपन स्कूल से दसवीं या बारहवीं की परीक्षाएं दी हैं और आपकी किसी विषय में कंपार्टमेंट आ जाती है तो अब आपको कंपार्टमेंट के लिए होने वाली परीक्षा का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। साथ ही उस विषय की परीक्षा पास करने के लिए सिर्फ छह अवसरों की सीमा में नहीं बंधना पड़ेगा। ओपन स्कूल की ऑन डिमांड परीक्षा प्रणाली परीक्षार्थियों की इस समस्या को खत्म कर देगी। इसके तहत हर महीने परीक्षा कराई जाएगी। मान लीजिए कंपार्टमेंट विषय की अप्रैल में परीक्षा हुई। अगर परीक्षार्थी को लगता है कि वह परीक्षा के लिए तैयार नहीं है तो चिंता की कोई बात नहीं। वह परीक्षार्थी उस विषय की परीक्षा अप्रैल माह में न देकर मई, जब वह चाहे जून,जुलाई या साल के किसी भी माह में दे सकता है। अब परीक्षार्थी को कंपार्टमेंट विषय की परीक्षा पास करने के लिए तीन साल में सिर्फ छह ही नहीं, बल्कि छह गुणा अवसर मिलेंगे। महीने के आखिरी सप्ताह में होगी परीक्षा ऑन डिमांड परीक्षा हर महीने के आखिरी सघ्ताह के मंगलवार वबुधवार को होगी। परीक्षा का समय सुबह साढ़े दस से डेढ़ बजे तक होगा। अगर किसी परीक्षार्थी को प्रेक्टिकल परीक्षा देनी है तो उसकी परीक्षा उसी दिन दोपहर ढाई बजे बोर्ड मुख्यालय स्थित स्टडी सेंटर में होगी। फिलहाल यह परीक्षाएं बोर्ड मुख्यालय में होंगी और इस प्रणाली के तहत वे परीक्षार्थी ही परीक्षा दे सकेंगे, जिनकी ओपन स्कूल की मार्च 2011 व मार्च 2012 में हुई परीक्षा में गणित और विज्ञान विषय कंपार्टमेंट है। प्रत्येक विषय की फीस 250 रुपये और प्रेक्टिकल विषय की फीस 50 रुपये ज्यादा लगेगी। फीस ऑनलाइन ही भरी जाएगी। हजारों परीक्षार्थियों को मिलेगा लाभ ऑन डिमांड परीक्षा प्रणाली से परीक्षार्थियों को काफी फायदा होगा। इस प्रणाली में परीक्षार्थियों को काफी सुविधाएं दी जाएंगी, जैसे कि पहले जहां तीन साल में परीक्षा पास करने के लिए छह अवसर मिलते थे, अब वहीं 36 अवसर मिलेंगे। इसके अलावा परीक्षार्थी खुद तय करेंगे कि उन्हें कब परीक्षा देनी है। इसके लिए ओपन बोर्ड ने परीक्षार्थियों की सहूलियत के लिए और भी विचार चल रहा है। रेखा जांगड़ा , अस्सिटेंट डायरेक्टर, ओपन स्कूल