Pages

Saturday, December 15, 2012

सरकारी स्कूलों ने निजी विद्यालयों को पछाड़ा

भिवानी : सरकारी स्कूलों की तुलना में निजी स्कूलों में पढ़ाई अच्छी होने के मिथक को इस बार सरकारी स्कूलों ने तोड़ दिया है। इसका खुलासा हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा घोषित किए गए बारहवीं कक्षा के प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा का परफारमेंस में हुआ है। इस परीक्षा में सरकारी स्कूलों का प्रदर्शन निजी स्कूलों से बेहतर रहा है। सरकारी सहायता प्राप्त व गैर सहायता प्राप्त निजी स्कूलों के बीच कांटे की टक्कर रही है। म्हारी लाडलियां इस बार भी लड़कों से आगे रही। बारहवीं कक्षा की प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा में कुल 2 लाख 51 हजार दस बच्चे सामान्य वर्ग के बैठे थे। इनमें से 1 लाख 58 हजार 374 बच्चे क्वालीफाई कर पाए हैं। 92 हजार 636 बच्चों को री-अपीयर दिया गया है। इनका पास प्रतिशत 63.09 रहा है। परीक्षा में 1 लाख 39 हजार 592 लड़के बैठेथे और 79 हजार 131 लड़के पास हुए हैं। लड़कों का पास प्रतिशत 56. 68 रहा है। जबकि 1 लाख 11 हजार 418 लड़कियों ने यह परीक्षा दी थी। इनमें से 79 हजार 243 लड़कियां कामयाब रही और इनका पास प्रतिशत 71.12 रहा है। सरकारी स्कूलों के 1 लाख 52 हजार 101 छात्रों ने परीक्षा दी थी। इनमें से 98 हजार 286 छात्र पास हुए और इनका पास प्रतिशत 64.61 रहा है। निजी स्कूलों के 97 हजार 318 छात्रों ने परीक्षा दी थी, इनमें से 59 हजार 179 छात्र पास हुए हैं और उनका पास प्रतिशत 60.80 रहा है। सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों का 60 प्रतिशत पास प्रतिशत रहा है। गैर सरकारी सहायता प्राप्त निजी स्कूलों का पास प्रतिशत 61.40 रहा है। शिक्षा बोर्ड की परीक्षा शाखा के सहायक सचिव जेबी कश्यप ने बताया कि प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा का रिजल्ट घोषित करने के बजाय परफॉरमेंस घोषित किया जाता है। रिजल्ट तो मार्च में घोषित किया जाता है। दसवीं के प्रथम सेमेस्टर का परीक्षा प्रदर्शन घोषित भिवानी : हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड प्रशासन ने दसवीं कक्षा के प्रथम सेमेस्टर का परीक्षा प्रदर्शन घोषित कर दिया है। दसवीं कक्षा के 58.30 फीसद छात्र पास हुए हैं। हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के सचिव डीके बेहरा, चेयरपर्सन सुरीना राजन 22 दिसंबर तक लंदन दौरे पर रवाना हो गए हैं। वह 13 से 22 दिसंबर तक लंदन में शैक्षिक कार्यक्रम के तहत लंदन में रहेंगे।