Pages

Saturday, May 10, 2014

आंगनबाड़ी वर्करों व हेल्परों की रिटायरमेंट आयु बढ़ी

सरकार ने आंगनबाड़ी वर्करों और हेल्परों की रिटायरमेंट आयु 60 साल से बढ़ाकर 65 साल कर दी है। उनका मानदेय भी बढ़ा दिया गया है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा की गोहाना रैली में की गई घोषणाओं को अधिसूचना जारी कर अमलीजामा पहना दिया गया। सरकार के इस निर्णय का फायदा 25,962 आंगनबाड़ी केंद्रों में काम कर रही 51,400 वर्कर व हेल्परों को होगा। अधिसूचना के मुताबिक 60 साल की उम्र के बाद आंगनबाड़ी वर्कर व हेल्पर का केंद्र में काम करने के लिए फिजिकली फिट होना जरूरी है। 60 साल की उम्र तक काम करने के बाद उन्हें सिविल सर्जन की अध्यक्षता में गठित जिला मेडिकल बोर्ड द्वारा जारी किया फिटनेस सर्टिफिकेट हासिल करना होगा। सरकार ने आंगनबाड़ी वर्करों का मानदेय 5000 रुपये से बढ़ाकर 7500 रुपये प्रतिमास और आंगनबाड़ी हेल्परों का मानदेय 2500 रुपये से बढ़ाकर 3500 रुपये प्रतिमाह कर दिया है। मिनी आंगनबाड़ी वर्करों के मानदेय को 3250 रुपये से बढ़ाकर 4000 रुपये प्रतिमास किया गया है।